Thursday, June 24, 2010

सेम टू सेम


आजकल जहाँ देखिये वहीँ अंग्रेजी स्पीकिंग सेंटर खुला हुआ है. बड़े शहरों की बात छोडिये, छोटे गाँव देहात में भी जिसे भी थोड़ी बहुत अंग्रेजी आती है, वही क्लास चलता है. मेरे गाँव पर भी शिवाला पर बिसुनधरवा का बेटा क्लास चलाता है. इस बार देख कर आये, बड़ा बढियां चल रहा है छौंड़ा का बिजनेस.
बालीवुड के साथ साथ हालीवुड का हउवा भी देख ही रहे हैं, स्पाइडर मैन का मकड़ी-बबुआ बन चुका है जिसमे टोबे मैग्वायेर बोल रहे हैं - "हम तोहरा मुआ देब रे राक्छ्स!!!"

हम पिछलग्गू की तरह हर काम कर रहे हैं, उनके जैसा पहिनना चाह रहे हैं, उनके अंदाज में बतियाना चाह रहे हैं, और ये लोग तो ना जाने कब से हमारी ही शैली चुरा कर बड़े कान्फिडेंस के साथ प्रयोग कर रहे हैं. उदहारण के लिए देखिये, अमेरिकन्स जब किसी से मिलते हैं तो कहते हैं "what's up man!!", और हमारे यहाँ बच्चे बूढ़े और जवान, "का हो मर्दे!!!"
दूसरा उदहारण, "Get outta here!!", "चल भाग हियाँ से"
एक और लीजिये, "Are you out of your mind??", "बउरा गईल बाड़े का रे?"
देखा ना, सब नक़ल किया हुआ है. सेम टू सेम. हँ न त!

इसलिए, मैं अंग्रेजी सीखने के लिए लुलुआये लोगों से यहीं कहूँगी की बस ५०% मेहनत कीजिये बाकी शैली तो अपनी है ही!

जा झाड के!

31 comments:

  1. ठेठ देशी अंदाज में अंग्रेजी पसंद आया ।

    ReplyDelete
  2. यह ससुरी अंग्रेजी से अपना पुराना बैर है . बहुत कुछ सीखा लेकिन अंग्रेजी ना सीख पाये हलो थैन्क यू हाउ डु यु डू के अलावा

    ReplyDelete
  3. टेंसन मत लीजिए...देख रहे हैं न ....सब चोरी का माल है!

    ReplyDelete
  4. हे रे चल भाग हियाँ से ;)

    ReplyDelete
  5. हा हा हा पंडियाईन ..हमको लगता है आप बहुते जल्दी उहां अमरीका से चुनाव भी लडोगी और केतना हुसियारी से साबित कर दोगी कि इ अमरीका भी भोजपुर , आरा पटना से ही निकला था असल में । बधा हो ..बन्हिया है हो ...........

    ReplyDelete
  6. एकदम लड़ेंगे चुनाव. गदहा छाप से.

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. सब नक़ल किया है रे ..... हा हा हा ..बहुत सही पोस्ट...धन्यवाद्.

    ReplyDelete
  9. एक समय था जब कपिलदेव की "रेपीडेक्स इंग्लिश" पर भगवतगीता जैसी आस्था थी । कुछ इंग्लिश जैसा निकले तो । अब नदी के इस पार हैं उनके डूबने की कल्पना से मुस्करा रहे हैं ।
    भाषा फिरंगिया, स्टाइल देसिया । क्या कहने ?

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  11. hey desi girl!good one.
    (dekha hamain bhi angreji ka bhoot chad gaya hai,is chakkar main kuch galat type ho gaya tha isliye delete kar diya

    ReplyDelete
  12. हा हा ...फोटो तो किसी भोजपुरी फिल्म के हीरो का है. अंदाज तो देखिये!

    ReplyDelete
  13. हमको भी एही लगता था कि इ अमरीका वाले सब चोरी किये हैं... अब तुम तो उहाँ रह रही हो तो देख के बता रही हो... अच्छा बात है ! अमरीका वालों को भी बता देना- अंगरेजी में :-)

    ReplyDelete
  14. मान गए जी मान गए आपकी बात !

    ReplyDelete
  15. khushkittai, kitne hi sahi tarike se aapne baat rakhi hai istuti aunty, maan gaye aapko....

    ReplyDelete
  16. क्या स्टाइल है कहने का ...जबाब नहीं ..सैम ही सैम है ..

    ReplyDelete
  17. हा हा हा . , ये मरदे, इ स्तुतिया इतना सुघर लिखेली की तनिके दिन में चाचा सैम के देशवा क लोग बौरा जयिहन , वोकर भोजपुरी सुन के आपन टिपिर टिपिर अंग्रेजिया भुला जयिहन .चले दे ऐसही झाड़ के.

    ReplyDelete
  18. दुबई में त एतना भोजपुरिया लोग मिला हमको कि हमरा पूरा भोजपूरी का प्रैक्टिस हो गया. एहाँ तक कि कोई हमको भैया, कोई पाहुन तक कहने लगा. एक दिन एगो भोजपुरिया नगरेज हमरे सामने प्रकट हुआ अऊर बोला, “ सर! माई रिसीट कम.” हम त अकबका गए. बोले, “ए भाई जी! एक्के हफ्ता में कहवाँ से आ जाई राऊर रसीद.” ऊ भाई जी तुरते एक्सप्रेसन दिए, “ओह! शिट.” हमहूँ लगले पूछ लिए उनहे, “ ए भाई जी! हई जऊन रऊआ ओह शिट कहनीं हँ, एकर माने का होला?” उनका जवाब सुनकर त हम सीट छोड़कर भाग गए. उनका जवाब था, “ओह शिट माने … दुत्तेरे की!” अब ई परिभासा चाहे अनुवाद कोनो दिक्सनरी में मिलेगा का?

    ReplyDelete
  19. हाल ही में एक अखबार में मार्क टली का लेख पढ़ा था जिसमें उन्हेांने इसी चलन पर चिंता जताई थी. मार्क ने आगाह किया था कि कहीं हम भारत को नकली अमेरिका तो नहीं बना रहे हैं. इंग्लिश स्पीकने के चक्कर में लोग इधर उधर पीकने वाले नकलची बंदर नजर आते हैं. ...जा बढ़ा के!

    ReplyDelete
  20. कंठलंगोटी बाँध के हीरो बन गये जिम्मी !
    गिटपिट इंग्लिस बोलके कहते अम्मी गिम्मी छिम्मी !!
    (Mom give me peas)

    ReplyDelete
  21. waah.. ekdam dhaansu likha hai aur bhojpuri bemisaal

    Haan apne neembu-mirch bahut pasand aaye :)

    ReplyDelete
  22. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया पोस्ट!!

    'शेम' टू सैम... जो हमसब का भाषा चुरा लिया है. पहले बताया होता ता कहते कि; "चल भाग हियाँ से".

    ReplyDelete
  24. बहुत सटीक शोध कर ली हो!! :)

    ReplyDelete
  25. भोजपुरी में नियर माने नजदीक होता है...लोग कहते हैं वहीं रामगंज के नियरे हबीबगंजौ ..... अंग्रेजी में भी Near माने नजदीक ही होता है :)

    भोजपुरी में कहते हैं - हमका त लउकात नईखे कहां गईल मुनिया....और अंग्रेजी में भी कहते हैं - Look - देखो....तो ये लउक और Look में भी समानता है :)

    ReplyDelete
  26. बस मज़ा आ गया पढ़ कर . अंतिम पंक्ति " जा झाड़ के " बेजोड है :)

    ReplyDelete